Tuesday, 23 January 2018

Aadhar Card Virtual ID क्या है और इसे कैसे बनाये ? पूरी जानकारी

Friends क्या आपको पता है कि Aadhar Card Virtual ID क्या है और इसे क्यों शुरू किया जा रहा है ? अगर आपको इसके बारे में नही पता है, तो कोई बात नही क्योंकि आज हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी detail से बताने वाले है।

What is aadhar virtual id ? Virtual id kaise banwaye

दोस्तों जैसा की आप सभी जानते है कि पिछले कुछ समय से Aadhar Card को सभी Bank Accounts, Pan Cards, Phone Numbers, School, Collages, और बहुत सी Organizations और Private Companies से जोड़ा जा रहा है। क्योंकि सरकार आधार कार्ड को primary identification card बनाने जा रही, जिस से हमारे सभी डाटा जुड़े हुए होंगे और सिर्फ आधार कार्ड से हमारा पूरा डाटा पता लगाया जा सकेगा।

Ye Bhi Padhe...

पर पिछले कुछ समय से aadhar card की information's का misuse होने की खबरें सामने आ रही है। इस लिए aadhar card की safety को लेकर कई सवाल उठाये जा रहे है। इस लिए सरकार ने aadhar card को और अधिक सुरक्षित बनाने के लिए Virtual ID को लेकर आ रही हैं।

Aadhar Card Virtual ID क्या है ?


अगर हम आसान शब्दों में कहें तो Virtual ID हमारे aadhar card का एक clone होगा। जिसमे user की पहचान के लिए एक 16 digits का नंबर होगा, जो की एक सिमित समय के बाद change किया जा सकेगा, नया Virtual ID नंबर generate करने के बाद पुराना वाला नंबर expire हो जायेगा।

आने वाले समय में KYC के लिए users virtual id को aadhar card की जगह इस्तेमाल कर सकेंगे। जिसमे सम्बंधित organization के साथ user की सिर्फ कुछ basic details जैसे नाम, पता, फोटो ही share किये जायेंगें।

Virtual ID को क्यों लाया गया है ?


अब सवाल उठता है कि Virtual ID की क्या जरुरत है और इसको क्यों लाया जा रहा है ? इसका मुख्य कारण aadhar holders की information को leak होने से रोकना है। क्योंकि पिछले काफी समय से ऐसे case सामने आ रहे, जंहा users की aadhar card detail को चुराया जा रहा है और उसका misuse किया जा रहा है। जिसके कारण इसकी security को लेकर कई सवाल उठाये जा रहे है।

इस लिए UIDAI ( Unique Identification Authority of India ) अपने users के डाटा को और अधिक सुरक्षित बनाने के लिए Virtual ID को ला रही है। इसके आने के बाद KYC के लिए users को अपने aadhar card की detail share करने की जरुरत नही पड़ेगी, इसकी जगह वो Virtual ID का प्रयोग कर पाएंगे। जिसमे सिर्फ user की basic detail जैसे नाम, पता और फोटो ही सम्बंधित organization के साथ share किये जायेंगे।

Virtual ID के क्या फायदे Advantages है ?


UIDAI या भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण की माने तो Virtual ID के आने के बाद aadhar users के डाटा के leak होने की संभावना बहुत कम रह जायेगी और उनका data पहले के मुकाबले और अधिक safe हो जायेगा। क्योंकि इसके आने के बाद users को किसी भी Organization या Company के साथ अपने aadhar number share करने की जरुरत नही पड़ेगी। इसके स्थान पर वो Virtual ID का इस्तेमाल कर पाएंगे। इस लिए उनका data पहले से ज्यादा safe रहेगा।

Aadhar Virtual ID को बनाना कब से शुरू किया जायेगा ?


UIDAI के अनुसार इसको 1 March 2018 से शुरू किया जायेगा और 1 June 2018 से users इसका इस्तेमाल करना शुरू कर सकेंगे। बाद में इसको सभी के लिए अनिवार्य भी कर दिया जायेगा।

Virtual ID Card कैसे बनवाये ?


Virtual ID को केवल aadhar holder (खाताधारक) स्वयं ही UIDAI की website से, aadhar app, aadhar center या केंद्र से प्राप्त कर सकता है।


क्या Aadhar Card Virtual ID हमारे डाटा को Secure रख पायेगा ?


Virtual ID के आने के बाद users aadhar के स्थान पर इसका उपयोग कर पाएंगे और ये सम्बंधित संस्था को सिर्फ user की सिमित और आवश्यक सूचना ही access करने की permission देगी, साथ ही user अपनी Virtual ID समय समय पर change भी कर पायेगा। इस लिए हम ये उम्मीद कर सकते है कि ये aadhar holders के data को safe रख पायेगा।

पर फिर भी अभी इसके बारे में कुछ भी कहना मुश्किल है। क्योंकि अभी इसकी असली परीक्षा बाकि है। इस पर तभी पूर्ण रूप से विश्वास किया जा सकेगा, जब ये 119 करोड़ aadhar holders के data को 100% secure रख पायेगा।  अभी हम सिर्फ ये उम्मीद कर सकते है कि ये हमारे डाटा को safe रख पाये।

Ye Bhi Padhe...

तो उम्मीद करता हूँ की Aadhar Virtual ID से सम्बंधित सभी सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी share करे।

1 comments so far


EmoticonEmoticon