Cow Hugging/Cuddling क्या है ? लोग गाय को गले क्यों लगा रहे है ?

What is Cow Hugging Trend:- पिछले कुछ दिनों से एक चीज बहुत ज्यादा ट्रेंड कर रही है जिसमे लोग गाय को गले लगाते दिख रहे है, इसको cow hugging या cow cuddling कहा जा रहा है, जिसका मतलब गाय को गले लगाना है।

तो आखिर ये cow cuddling क्या है ? या लोग गाय को गले क्यों लगा रहे है ? यह हम आपको इस लेेेख में बताने वाले है। इसलिए इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें।

What is cow cuddling


Cow /Cuddling Hugging क्या है ? लोग गाय को गले क्यों लगा रहे है ?

आज के इस आधुनिक युग मे तनाव, उदासी, डिप्रेसन, एक बहुत ही आम सी समस्या बन गयी है। हर दूसरा इंसान किसी न किसी कारण से मानसिक रूप से बीमार रहता है और तनाव में रहता है। इस तनाव को दूर करने के लिए बहुत सारे उपाय, दवाइयां और थेरेपी है जिनके द्वारा हम अपना तनाव दूर कर सकते है।

Cow Cuddling भी एक थेरैपी है, जो Animal Therapy का ही एक भाग है। इसको Cow Cuddling Therapy Human कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि किसी भी जानवर को गले लगाने से इंसान का मानसिक तनाव कम होता है और उसे राहत महसूस होती है। इसलिए दुनियाभर में बहुत सी जगहों पर एनिमल थैरेपी दी जाती है। 

गाय को गले लगाने से या उसके गले व शरीर के बाकी नर्म हिस्सों को सहलाने से उसे आराम मिलता है और वो हमारे साथ दोस्ताना व्यवहार करती है। ऐसे में हम भी गाय को गले लगाकर अपना मानसिक तनाव कुछ हद तक दूर कर सकते है।

Animal Therapy से मानसिक तनाव दूर होता है, ये बात साइंटिफिकली प्रमाणित भी है। मनोवैज्ञानिकों का मानना है जानवर को गले लगाने से हमारे दिमाग मे ऑक्सिटॉक्सिन नामक एक हार्मोन रिलीज़ होता है जो हमारे मानसिक तनाव को कम करने में बहुत ही हेल्पफुल होता है। इसके अलावा भारतीय प्राचीन चिकित्सा प्रदति में भी यह जिक्र किया गया है कि गाय को प्रेम करने से मनुष्य मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है।

मैडिटेशन या ध्यान करने से हमारे दिल की धड़कन दिमि हो जाती है और हमे आराम महसूस होता है, ठीक यही चीज गाय को गले लगाने से होती है। ऐसा करने से हमारे दिल की धड़कन दिमि हो जाती है, हमारा दिमाग एकदम शांत हो जाता है और आत्मविश्वास बढ़ता है।

अमेरिका में लोग इस थैरेपी को सिर्फ 1 से 3 मिनट लेने के लिए हजारों रुपये दे रहे है, वंही नीदरलैण्ड में लोग 4 हजार रुपये में लगातार 2 से 3 घण्टे cow cuddling therapy ले रहे है। हालांकि भारत मे देखा जाए तो गाय एक बहुत ही कॉमन पालतू जानवर है जो हर दूसरे घर मे मिल जाता है, इसलिए हम भारतवासी इस थैरेपी को बिल्कुल फ्री में ले सकते है।

जब हमे कोई मासूम और भोला इंसान दिखाई देता है तो हम उसे गाय जैसा बोला आदमी बताते है, यानी कि गाय एक बहुत ही मासूम जानवर है। भारत मे गाय को माँ का दर्जा दिया जाता है। सही मायनों में देखे तो यह सही भी है। क्योंकि जब हम माँ को गले लगाते है या उसकी गोद मे सोते है तो हम अपनी सभी चिंताए भूल कर शांत हो जाते है, ठीक यही गाय को गले लगाने से होता है। 


Cow Hugging कब व कन्हा से शुरू हुआ ?

Cow Hugging कोई नई चीज नही है काफी समय पहले से लोग एनिमल थैरेपी के रूप में गाय व बाकी जानवर को गले लगाते देखे गए है। नीदरलैंड वो देश है जंहा से ये चीज ट्रेंड में आई है। इसलिए हम यह बोल सकते है कि cow hugging की शुरुवात नीदरलैंड से हुई है।

ये भी पढ़े...


अंतिम शब्द:-

 गाय को गले लगाने से हमारे नकारात्मक विचार खत्म हो जाते है, इसलिए मानसिक तनाव को दूर करने के लिए आप भी इस cow cuddling therapy का इस्तेमाल कर सकते है। तो दोस्तो अभी आप जान गए होंगे कि लोग गाय को गले क्यों लगा रहे है ? या यह cow hugging kya hai ? Cow cuddling kya hai ? उम्मीद है कि आपको जानकारी पसन्द आयी होगी, अगर लेख पसन्द आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करे।




Post a comment

0 Comments