Insurance क्या है ? कितने प्रकार की होती है ? पूरी जानकारी

What is Insurance Full Information in Hindi:- हेलो दोस्तो आज के इस लेख में जानेंगे कि Insurance kya hota hai ? Insurance kitne types ka hota hai ? Insurance ke benefits kya hote hai ? आदि। इस लेख में हम आपको इन्शुरन्स के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में बताने वाले है, इसलिए इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़ें।

Insurance क्या है ? कितने प्रकार की होती है ? पूरी जानकारी


Insurance क्या है ? हिंदी में What is Insurance in Hindi ?

इन्सुरेंस का मतलब होता है भविष्य में आने वाले खतरे से सुरक्षा करना है। अगर हम आसान शब्दों में समझे, तो इन्सुरेंस एक ऐसी सर्विस है जो कि भविष्य में हमारे साथ, तथा हमारी प्रोपर्टी के साथ होने वाले नुकसान की भरपाई करती है, उनका कवर करती है। 

इन्सुरेंस एक लीगल एग्रीमेंट होता है जो इन्सुरेंस करवाने वाले व्यक्ति और इन्सुरेंस करने वाली कंपनी के बीच में होता है। इस एग्रीमेंट के अनुसार इन्सुरेंस लेने वाले व्यक्ति को हर महीने या हर साल एक फिक्स अमाउंट या कुछ पैसे उस बीमा कंपनी को देने है, जिसके बदले इन्सुरेंस करवाने वाले व्यक्ति को अगर भविष्य में कोई लाइफ या फाइनेंसियल नुकसान हो जाये, तो उसकी भरपाई वह इन्सुरेंस कंपनी करती है।

जैसे कि मान लीजिये आपका छोटा सा परिवार है जिसमे आप, आपकी पत्नी और आपके बच्चे है। आपने अपनी इन्सुरेंस करवा रखी है, और आपकी आकस्मिक मृत्यु हो जाने जैसी स्थिति में इन्सुरेंस कंपनी आपके परिवार को कवर देती है, यानी उन्हें पैसे देती है, जिससे आपके परिवार को फाइनेंशियल सपोर्ट मिलता है।

ठीक इसी प्रकार से अगर आपने अपने घर या गाड़ी की इन्सुरेंस करवा रखी हो, और उन्हें कुछ भी नुकसान हो जाये, तो इन्सुरेंस कंपनी आपको उसका मुआवजा देती है। हालांकि इसकी कुछ शर्तें भी होती है, उन्ही के आधार पर नुकसान की भरपाई की जाती है।

इन्सुरेंस कंपनी कितने पैसे देती है ? यह आपकी पॉलिसी पर निर्भर करता है, आपकी पॉलिसी जितनी बड़ी होगी, आपको कवर उतना ही ज्यादा मिलेगा। इन्सुरेंस कैलकुलेट करने के लिए एक एप्लीकेशन है, जिसके द्वारा आप यह जान सकते है कि कितनी बड़ी पॉलिसी लेने पर आपको कितना कवर मिलेगा। आप नीचे डाउनलोड बटन पर क्लिक करके उस एप्प को अभी डाउनलोड कर सकते है।

Download


इन्सुरेंस कितने प्रकार की होती है ? Types of Insurance

इन्सुरेंस मुख्यरूप से सिर्फ 2 प्रकार की होती है।


1. Life Insurance

यह इन्सुरेंस हमारी लाइफ को कवर करती हैं। यह इन्सुरेंस करवाने के बाद अगर हमारी आकस्मिक मृत्यु हो जाये, तो हमारे परिवार को पोलिसी के अनुसार कवर यानी पैसे मिलते है। जिससे उन्हें काफी सपोर्ट मिलता हैं। अगर आपका परिवार सिर्फ आपकी कमाई से ही चलता है, तो आपको यह इन्सुरेंस जरूर करवानी चाहिए, क्योंकि जिंदगी का कोई भरोसा नही होता है, अगर आप लाइफ इन्सुरेंस करवा लेते है, तो आपके बाद भी इन्सुरेंस कंपनी आपके परिवार को financially support करती है।


2. Genral Insurance

इसमे कई प्रकार की इन्सुरेंस आती है। चलिये हम बारी बारी से उनके बारे में बात कर लेते है।


1. Health Insurance

इस इन्सुरेंस को लेने के बाद अगर आप बीमार हो जाये, तो आपकी बीमारी पर जितना भी खर्चा होता है, वह सब बीमा कंपनी आपकी पोलिसी के हिसाब से वहन करती है, इसकी कुछ शर्तें भी होती है। जैसे बीमार होने पर आपको सिर्फ उसी हॉस्पिटल में इलाज करवाना होता है, जो उस पोलिसी से जुड़े हुए होते है।

आज कल कई प्रकार की हेल्थ इन्सुरेंस मौजूद है, जैसे पूरे परिवार की एक साथ बीमा करवाना, आदि। तो आप अपने पूरे परिवार का बीमा करवाकर हेल्थ पर होने वाले खर्चे को कम कर सकते है, क्योंकि बीमारियों का कोई भरोसा नही होता है, यह हमें या हमारे परिवार में किसी न किसी को होती रहती है। ऐसे में अगर आपने यह पॉलिसी ले रखी होगी, तो आपको बीमारियों पर अपनी जेब से एक पैसा भी खर्च करना नही पड़ेगा।


2. Home Insurance

इस इन्सुरेंस में घर का बीमा किया जाता है, यह बीमा करवाने के बाद अगर आपके घर को कोई भी नुकसान होता है, तो उसकी भरपाई बीमा कंपनी करती है, इस इन्सुरेंस में घर को प्राकृतिक आपदाओं जैसे आग, भूकम्प, बाढ़, आदि से नुकसान होने पर कंपनी उस की भरपाई करती है। साथ ही चोरी, दंगे आदि से घर को नुकसान होने पर भी बीमा कंपनी ही उसकी भरपाई करती है। 


3. Car Insurance

इस इन्सुरेंस में कार, बाइक जैसे वाहनों का बीमा किया जाता है, यह बीमा करने के बाद आपकी गाड़ी को कोई भी नुकसान होने पर उसका पूरा नुकसान बीमा कंपनी ही वहन करती है। इसके अलावा अगर आपके वाहन की वजह से किसी दूसरे व्यक्ति को कुछ नुकसान हो जाये, तो उसकी भरपाई भी बीमा कंपनी third party insurance के रूप में करती है।


4. Travel Insurance

यह इन्सुरेंस यात्रा के समय करवाई जाती है। जैसे कि मान लीजिये की आप किसी दूसरे देश घूमने जा रहे है, और उस देश में आपका सामान चोरी हो जाये या अन्य कोई नुकसान हो जाये, तो उसकी भरपाई बीमा कंपनी ही करती है। इस इन्सुरेंस की वैधता यात्रा पूरी होने तक ही होती है। यानी कि उस देश की यात्रा खत्म होते ही आपकी यह इन्सुरेंस भी खत्म हो जाएगी।

आज कल तो टैक्सी, बस, ट्रैन, फ्लाइट आदि की टिकट बुक करते समय भी हमे ट्रेवल इन्सुरेंस करने का ऑप्शन मिलता है, जंहा हम बहुत ही कम कीमत में यात्रा के दौरान अपना इन्सुरेंस करवा सकते है।


5. Crop Insurance

यह इन्सुरेंस मुख्यरूप से किसानों के लिए है, इसमे किसान अपनी फसलों की बीमा करवाते है, अगर किसी भी कारण से उनकी फसल खराब हो जाये तो बीमा कंपनी किसान को मुआवजा देती है, साथ अगर किसान ने किसी बैंक से फसलों के लिए लोन लिया हो ? तो वो भी बीमा कंपनी ही चुकाती है। 


6. Bussiness Liability Insurance

यह इन्सुरेंस businesses के लिए लिया जाता है, ताकि उनकी सर्विस या किसी प्रोडक्ट की वजह से किसी को कोई नुकसान हो जाए, तो उसकी भरपाई बीमा कंपनी ही करती है।

ये भी पढ़े...


निष्कर्ष

अगर आपके घर की पूरी फाइनेंसियल जिम्मेदारी आपके कंधों पर ही है, तो आपको अपना इन्सुरेंस जरूर करवाना चाहिए, ताकि भगवान ना करे, पर अगर आपको कुछ हो जाये, तो आपकी गैर हाजरी में आपके परिवार को फाइनेंसियल सपोर्ट मिल सके।

तो दोस्तो इस लेख में इतना ही, अगले लेख में हम एक बार फिर से मिलेंगे, तब तक के लिए bye, और अगर आपको यह जानकारी insurance kya hota hai ? Insurance kitne types ka hota hai ? पसन्द आयी हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करे। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां