NEET क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

हेलो दोस्तों आप ने अब तक कई बार नीट (NEET) शब्द को बहुत बार सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं NEET क्या है ? NEET एग्जाम किस लिए दिया जाता है ? NEET एग्जाम क्लियर करने से क्या होता है ? आदि। आज के इस लेख में हम आपको NEET के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में बहुत ही आसान शब्दो में बताने वाले हैं। आपके मन में NEET से संबंधित जितने भी सवाल है, इस लेख में हम उन सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे। यह लेख पढ़ने के बाद आपको NEET के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए कहीं और जाने की आवश्कता नहीं पड़ेगी।

NEET क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में


NEET क्या है ? What is NEET ?

NEET एक Pre Medical Test होता है। Pre Test एक ऐसा एग्जाम होता है जो स्कूल/कॉलेज के किसी विशेष कोर्स में प्रवेश लेने से पहले लिया जाता है। इस Pre एग्जाम को पास करने के बाद ही उसे उस कोर्स में प्रवेश मिलता है।

NEET की फुल फॉर्म National Eligibility cum Entrance Test है। यानी कि एक ऐसा टेस्ट जो कि किसी कक्षा या कोर्स में प्रवेश लेने से पहले लिया जाता हो।

एक डॉक्टर बनने के लिए जितने भी कोर्सेज होते है जैसे, MMBS, BDS, M.S., M.D. आदि, इनमे प्रवेश लेने से पहले NEET का एग्जाम क्लियर करना पड़ता है, उसके बाद ही इन कोर्सेज में प्रवेश मिलता है। यानी हम यह कह सकते है कि डॉक्टर बनने के लिए NEET क्लियर करना अनिवार्य है। NEET एग्जाम NTA (National Testing Agency) करवाती है।

अगर आप अभी हाई स्कूल में है और आपका सपना एक डॉक्टर बनने का है तो आपको नीट के बारे में पूरी जानकारी पता होना बहुत जरूरी है। क्योंकि किसी ने एक बहुत ही अच्छी लाइन कही है कि अगर रास्ता मालूम हो तो मंजिल आसान हो जाती है। 

वैसे तो हमने इस लेख में NEET से सम्बंधित सभी बेसिक्स को क्लियर किया है, किन्तु फिर भी अगर आपका अन्य भी कोई सवाल हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है।


NEET की जरूरत क्यों पड़ी ? 

NEET के आने से पहले अगर किसी को कोई मेडिकल कोर्स करना होता था, तो उसे उसके राज्य के हिसाब से अलग अलग Pre एग्जाम क्लियर करते होते थे। कुछ राज्यो में तो मेडिकल कोर्स में प्रवेश लेने से पहले 8 से 10 एग्जाम क्लियर करने पड़ते थे, जिसमे समय और पैसे दोनों बर्बाद होते थे। इसके अलावा एक ही देश मे मेडिकल कोर्स में प्रवेश के लिए अलग अलग एग्जाम ऑर्गनाइज करवाने पड़ते थे, इसलिए इसी बात को ध्यान में रखते हुए NEET की शुरुवात की गई।


NEET की शुरुवात कब हुई ?

अगर हम बात करे NEET की शुरुवात की तो NEET की शुरुवात 5 मई 2013 को हुई थी। 5 मई 2013 को पहली बार NEET का एग्जाम ऑर्गनाइज किया गया था। 


NEET एग्जाम के लिए Qualification क्या है ?

NEET एग्जाम देने के लिए आपके पास Science सब्जेक्ट होना जरूरी है और साइंस में भी PCB यानी Physics, Chemistry, Biology होना जरूरी है। क्योंकि मेडिकल फील्ड में बायोलॉजी सबसे महत्वपूर्ण सब्जेक्ट होता है।

इसके अलावा यह एग्जाम देने के लिए कंडीडेट की उम्र कम से कम 17 साल होनी चाहिए।

12th में कम से कम 50% मार्क्स होने चाहिए। हालांकि समय के अनुसार यह कम या ज्यादा हो सकते है।

NEET एग्जाम देने के लिए कंडीडेट का भारतीय नागरिक होना जरूरी है।


NEET एग्जाम कितने प्रकार के होते है।

NEET एग्जाम 2 Level पर होता है। इसलिए हम यह कह सकते है कि NEET एग्जाम 2 प्रकार का होता है।

1. UG Level

2. PG Level

UG Level NEET Exam में मिनिमम qualification 12th होती है, और मेडिकल लाइन के सभी प्रकार के graduation कोर्सेज जैसे MBBS, BDS आदि में प्रवेश लेने के लिए यह UG लेवल एग्जाम करवाया जाता है।

PG Level NEET एग्जाम M.S. व M.D. जैसे मेडिकल के मास्टर कोर्सेज में प्रवेश लेने के लिए करवाया जाता है। इसकी मिनिमम qualification मेडिकल में graduation जैसे MBBS, BDS आदि होती है। 


NEET Syllabus में क्या क्या आता है ?

नीट का सिर्फ एक ही पेपर होता है जो कि ऑफलाइन होता है। आने वाले समय में हो सकता है कि यह ऑनलाइन होना शुरु हो जाए, लेकिन अभी फिलहाल NEET एग्जाम ऑफलाइन ही करवाया जाता है। जिसमें ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्न आते हैं और गलत उत्तर पर नेगेटिव मार्किंग भी होती है। NEET में मुख्य रुप से चार सब्जेक्ट के प्रश्न आते हैं, जो कि परसेंटेज के हिसाब से नीचे दिए गए है।


विषय              प्रश्न

Physics       25%

Chemistry   25%

Botaney       25%

Zoology       25%


NEET की तैयारी कैसे करे ?

कोई भी काम हो अगर हमें उसमें सफलता हासिल करनी है तो हमें अपने आप को उस काम के प्रति समर्पित करना पड़ता है। इसलिए अगर आप अपने आप को एक डॉक्टर के रूप में देखना चाहते हैं या एक डॉक्टर बनने का आपका सपना है, तो आपको इस सपने को पूरा करने के लिए पूरी लगन से मेहनत करनी होगी और पढ़ाई करनी होगी।

अगर आप पहले भी नेट एकदम दे चुके हैं ? तो अपने पिछले एक्जाम को अच्छे से एनालाइज करें और आपने पिछले एग्जाम में जो गलतियां करी थी, वह इस बार बिल्कुल भी ना करें।

किसी भी एग्जाम को क्लियर करने के लिए जरूरी नहीं है कि आप दिन और रात सिर्फ पढ़ते ही रहे। अगर आप अच्छे माइंडसेट के साथ थोड़ा कम समय के लिए भी बढ़ेंगे तो आपको टॉपिक्स अच्छे से याद रहेंगे। इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखें और कम से कम 7 से 8 घंटों की अच्छी नींद लें। ताकि जब आप नींद से उठे तो आपका माइंड एकदम फ्रेश हो और आप अच्छे से पढ़ाई कर सकें।

पढ़ाई करने के लिए सिर्फ विश्वसनीय और ऑथेंटिक बुक्स का ही इस्तेमाल करें।

एक बार पिछले कुछ साल के NEET Exams पेपर्स का एनालिसिस जरूर करे। ताकि आपको एक अंदाजा हो जाए कि एग्जाम में किस प्रकार के प्रश्न आते हैं।

एक फिक्स टाइम टेबल बनाएं और रोज उसको फॉलो करें। अगर आप 1 दिन भी अपने टाइम टेबल को फॉलो नहीं करेंगे तो आप मिसगाइड हो सकते हैं, और आपका ध्यान पढ़ाई से भटक सकता है। इसलिए स्ट्रिक्ट तरीके से अपने टाइम टेबल को फॉलो करें।


Final Words:-

अगर आपका सपना एक डॉक्टर बनने का है तो आपको पूरी मेहनत और लगन से पढ़ाई करनी होगी। हमारी शुभकामनाएं आपके साथ है,  आप अपने लक्ष्य को जरूर प्राप्त करेंगे। इसके अलावा अगर आपको यह जानकारी NEET kya hai ? इसकी शुरुआत कब हुई ? NEET एग्जाम के लिए Qualification क्या है ? NEET Syllabus में क्या क्या आता है ? NEET की तैयारी कैसे करे ? पूरी जानकारी आपको पसन्द आयी हो तो इसे अपने मित्रों के साथ भी जरूर शेयर करें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां