Psychologist कैसे बने ? पूरी जानकारी हिंदी में

How to Became A Psychologist Full Information:- दोस्तों आपने अक्सर Movies या रियल लाइफ में साइकोलॉजी (Psychology) या साइकोलॉजिस्ट (Psychologist) के बारे में बहुत बार सुना होगा। लेकिन क्या आप जानते है कि एक Psychologist कौन होता है ? हो सकता है कि आप इसके बारे में थोड़ा बहुत पहले से जानते हो, या हो सकता कि आप इसके बारे में बिल्कुल भी नही जानते हो, लेकिन उससे कोई फर्क नही पड़ेगा। 

क्योंकि आज यह पूरा लेख पढ़ने के बाद आपके मन मे Psychology या Psychologist से सम्बंधित जितने भी सवाल है जैसे Psychology क्या है ? Psychologist कैसे बने ? Psychologist बनने के लिए कौन कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है ? Psychologist बनने के बाद हम कौन कौनसी जॉब कर सकते है ? आदि। इन सभी के जवाब आपको इस लेख में मिल जाएंगे। इसलिए इसे अंत तक जरूर पढ़ें, और लेख पसन्द आये तो इसे अपने मित्रों के साथ भी शेयर करे।

Psychology kya hai hindi me puri jankari

साइकोलॉजी का मतलब क्या होता है, psychology me career kaise bnaye,


Psychology क्या है ?

अगर आसान शब्दों में कहे तो Psychology एक ऐसा विषय है जिसमे स्टूडेंट को बताया जाता है कि एक इंसान का दिमाग कैसे सोचता है या कैसे काम करता है, इसमे दिमाग से जुड़ी हुई बारीक से बारीक चीजें बताई जाती है, जैसे इंसान को किन हालातों में तनाव, निद्रा, या एंजाइटी होती है, और इसको किस प्रकार से दूर किया जा सकता है, आदि।


Psychologist कौन होता है ? 

Psychologist एक प्रकार का डॉक्टर होता है, जो दवाई (medicine) दिए बिना सिर्फ थेरेपी से अपने मरीजों का इलाज करता है। साइकोलॉजिस्ट ऐसे मरीजों का इलाज करता है जो किसी कारण से मानसिक तनाव या stress में होते है, या उन्हें किसी चीज की लत पड़ी जाती हो, जैसे पूरा दिन मोबाइल चलाना, गेम्स खेलना, आदि। इसके अलावा जो लोग इमोशनली दुखी होते है' वो भी Psychologist के पास इलाज के लिए जाते है।

अगर आसान शब्दों में कहे तो हम यह कह सकते है की जो लोग अपनी इंद्रियां या भावनाएं जैसे गुस्सा, दुख, प्यार, क्रूरता, आदि कंट्रोल नही कर पाते है, Psychologist उन्हें यह भावनाएं कंट्रोल करना सिखाता है, और इसके लिए वह मरीज को कोई मेडिसिन नही देता है, बल्कि माइंड को कंट्रोल करना सिखाता है। बस इसी प्रक्रिया को Psychology कहते है।

Psychologist कई प्रकार के होते है। चलिए हम आपको इनके प्रकार और इनके काम के बारे में थोड़ा बता देते है।


Psychologist कितने प्रकार के होते है। Psychology Branches

1. Devolopment Psychologist:- इसमे खासतौर से बच्चों का दिमाग कैसे काम करता है, यह सिखाया जाता है। पेरेंट्स या टीचर्स को बच्चों के साथ कैसे डील करना चाहिए ? यह अगर किसी बच्चे में कुछ कमी है ? तो उसके साथ कैसे व्यवहार करना चाहिए ? आदि। सिखाया जाता है।

2. Clinical Psychologist:- इसमे इंसानो की कॉमन सी समस्या जैसे stress तनाव, निंद्रा आदि को कैसे कंट्रोल कर सकते है, या इनसे छुटकारा कैसे पाया जा सकता है, यह सिखाया जाता है।

3. Congitive Psychologist:- इसमे यह सिखाया जाता है कि इंसान के भावनाएं व मेमोरी किस प्रकार से काम करती है, हम कोई भी डिसीजन कैसे लेते है या किसी भी चीज को देख उसके प्रति हमारे दिमाग मे विचार किस प्रकार से बनते है ? आदि। यह साइकोलॉजी पिछले कुछ समय मे काफी लोकप्रिय हुई है।

4. Criminal Psychologist:- इसमे क्रिमिनल्स के बारे में पढ़ाया जाता है, और यह सिखाया जाता है कि उनका दिमाग कैसे काम करता है, उनका इरादा क्या होता है, या उनमे बदलाव किस प्रकार से लाया जा सकता है। आदि

5. Health Psychologist:- जो व्यक्ति हेल्थ के बारे में बिल्कुल भी परवाह नही करते है और हमेशा कुछ भी खाते रहते है, उनके दिमाग मे हेल्थी खाना खाने और उन्हें अपनी हेल्थ के प्रति जागरूक कैसे किया जाता है। या जिन लोगों को smoking, drinking, और drugs की आदत होती है, उनका यह addication कैसे छुटवाते है, यह इसी में आता है।

6. Organisational Psychologists:-  इंसान के बात करते समय उसके हाव भाव से उसकी ओरिजिनल skills पता लगाना इसमे सिखाया जाता है, ऐसे Psychologists बड़ी बड़ी ऑर्गनाइजेशन में काम करते है, और जॉब इंटरव्यू के दौरान इंटरव्यू देने वाले के स्किल्स उसके हाव भाव से पता करते है।

7. Social Psychologists:- एक इंडविजुअल इंसान का सोसाइटी के प्रति कैसा व्यवहार होता है, realtionship में आ रही problems को कैसे सॉल्व किया जा सकता है, यह सब इसमे सिखाया जाता है।

तो अभी आप सभी Types of Psychology के बारे में जान चुके है। इसलिए चलिए अभी हम आपको बताते है Psychologist kaise bane ? लेकिन उससे पहले हम आपका एक और छोटा सा डाउट क्लियर करना चाहेंगे, जो बहुत से लोगों के मन मे होता है, और वो यह है कि क्या Psychologists या Psychiatrist एक होते है ?


Psychologist और Psychiatrist में क्या अंतर है ?

बहुत से लोगो को यह लगता है कि यह दोनों एक चीज है, लेकिन ऐसा नही है। यह दोनों ही दिमाग से सम्बंधित समस्या का समाधान करते है किन्तु Psychiatrist दिमाग से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने के लिए दवाइयां देते है, किन्तु वंही Psychologist सिर्फ थैरेपी के माध्यम से इंसान की समस्याओं को हल करता है। Psychiatrist बनने के लिए अलग पढ़ाई करनी पड़ती है और Psychologist बनने के लिए अलग पढ़ाई करनी पड़ती है। यह दोनों अलग अलग चीजें है, इसलिए इन्हें एक कहना गलत है। Psychiatrist के बारे में हम आपको अगले लेख में डिटेल से बताएंगे।


मनोवैज्ञानिक कैसे बने ? How to Became Psychologist ?

Psychologist बनने के लिए आपको 11th क्लास से ही शुरुवात करनी होती है।

1. सबसे पहले आपको 11th, 12th में Psychology विषय लेकर उसे पास करना होता है।

2. फिर Bachelor Degree भी Psychology से करे। इसके लिए आपके पास 2 विकल्प है। 1. BA with Psychology 2. B Sc. with Psychology,

3. इसके बाद आप Psychology में Master Degree भी हासिल कर सकते है। इसके लिए भी आपके पास 2 विकल्प होते है। 1.MA in Psychology 2. M Sc in Psychology, इनमे से कोई भी एक कोर्स आप कर सकते है, साइकोलॉजी में मास्टर डिग्री करते समय आपको Psychology की किसी एक ब्रांच (जो अभी हमने आपको ऊपर बताई है) उनमें से किसी एक को सेलेक्ट करना होता है और उसी पर ज्यादा फोकस करना होता है। ताकि आप उसमे एक्सपर्ट हो सके।

4. उसके बाद आप Psychology में डिप्लोमा कर सकते है या चाहे तो PHD भी कर सकते है। और उसके बाद आपको खुद को भारतीय पुनर्वास परिषद (Rehabilitation Council of India) में रजिस्टर करवाना होता है। ताकि आप एक प्रमाणित (Certified Psychologist) बन सके। एक सर्टिफाइड साइकोलॉजिस्ट बनने के बाद आप अपना खुद का क्लीनिक खोल सकते है।


Best Institute for Psychology Course in India

वैसे तो भारत मे कई इंस्टिट्यूटस है जंहा से आप साइकोलॉजी कर सकते है, किन्तु यंहा हम भारत के कुछ प्रमुख Psychology Institutes के नाम बता रहे है, जिनमे आप पढ़ाई कर सकते है।

  • Aligarh Muslim University, Aligarh
  • Ambedkar University, New Delhi
  • Amity Institute Of Psychology And Allied Sciences, Noida
  • Banaras Hindu University, Varanasi
  • Christ University, Bangalore
  • Delhi University, New Delhi
  • Fergusson Collage, Pune
  • Indira Gandhi National Open University, New Delhi
  • Jamia Milia Islamia, New Delhi
  • Manipal University, Jaipur
  • Punjab University, Chandigarh
  • Sharda University, Greater Noida


Career Scope and Salary in Psychology 

Psychology में आप अपना काफी अच्छा करियर बना सकते है।  क्योंकि वर्तमान समय मे लोगों में एंजाइटी, तनाव, निद्रा, रिलेशनशिप टूटना, किसी चीज की आदत पड़ना, आदि एक आम सी समस्या है। इस लिए आप साइकोलॉजी करके अपना अच्छा करियर बना सकते है। साइकोलॉजी कम्पलीट करने के बाद आप प्राइवेट या सरकारी अस्पताल में, इंस्टिट्यूट्स में, रिसर्च सेंटर्स में, बड़ी बड़ी ऑर्गनाइजेशन्स व कंपनियों में आसानी से जॉब प्राप्त कर सकते है। इसके आप अपना खुद का क्लीनिक भी खोल सकते है। चलिए हम आपको विस्तार से अलग अलग जॉब्स के बारे में बताते है।

Counselor:- जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि आज कल लोगों में एंजाइटी, तनाव, निद्रा, रिलेशनशिप टूटना, किसी चीज की आदत पड़ना, आदि एक आम सी समस्या हो गयी है, काउंसलर लोगों की साइकोलॉजी समझता, उनके दिमाग को समझता है और उसके बाद उनकी समस्याओं को हल करने में उनकी मदद करता है, यही एक काउंसलर का काम होता है।

अगर हम एक काउंसलर की सैलरी की बात करें तो काउंसलर की शुरुआती सैलरी 20k से 30k per month होती है। बाद में समय के अनुसार यह बढ़ती रहती है।

Education Sector:- शिक्षा के क्षेत्र में भी साइकोलॉजिस्ट की काफी जरूरत पड़ती है, जैसे स्कूलों और कॉलेजेस और इंस्टीट्यूट आदि में। तो आप इस सेक्टर में भी जॉब प्राप्त कर सकते है। अगर इनकी सैलेरी की बात करे तो वो 20k से 35k से शुरू होती है, बाद में इसमे बढ़ोतरी होती रहती है।

Clinical Psychologist:- आप अपना खुद का क्लीनिक खोल कर लोगों की साइकोलोजिकल समस्याओं जैसे तनाव, निद्रा, एंजाइटी आदि को दूर करने में मदद करके अच्छी इनकम कमा सकते है, किन्तु इसके लिए आपके पास M. Phil. की डिग्री होना जरूरी है।

Organizations:- बड़ी बड़ी ऑर्गनाइजेशन्स व कंपनियों में भी आप आसानी से जॉब प्राप्त कर सकते है। क्योंकि ऐसी कंपनियों में नए एम्पलयोईज के इंटरव्यू होते रहते है। इंटरव्यू में एक साइकोलॉजिस्ट को भी रखा जाता है। ताकि वह इंटरव्यू देने आए कैंडिडेट के दिमाग को अच्छे से पढ़ सके और अच्छे व स्किल्ड एंप्लॉय चुनने में कंपनी की मदद करें। इनकी शुरुवाती सैलरी भी लगभग 30,000 से शुरू होती है।

Researchers:- इस केटेगरी में वह साइकोलॉजिस्ट आते हैं जो साइकोलॉजी की दुनिया में नई-नई चीजें खोजते रहते हैं या नई नई रीसर्च करते रहते हैं, एक रिसर्चर बनने के लिए आपके पास PHD की डिग्री होना जरूरी है। अगर हम इनकी सैलरी की बात करे तो यह 30,000 मंथली शुरू होती है।

ये भी पढ़े...


तो दोस्तो आज के इस लेख में आपने सीखा कि साइकोलॉजी क्या है ? साइकोलॉजि में करियर कैसे बनाएं ? या एक मनोवैज्ञानिक कैसे बने ? उम्मीद है कि यह लेख आपको पसंद आया होगा। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप नीचे कमेंट करके बता सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां