कार्डियोलॉजी क्या है ? Cardiologist कैसे बने ? पूरी जानकारी

How to Become a Cardiologist Surgeon Full Information in Hindi:- नमस्कार दोस्तो आप सभी का एक बार फिर हमारे ब्लॉग पर बहुत बहुत स्वागत है, आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे की कार्डियोलॉजी क्या है ? कार्डियोलॉजिस्ट कौन होता है ? एक कार्डियोलॉजिस्ट कैसे बने ? आदि। इस लेख में हम आपको Cardiologist के बारे में पूरी जानकारी बहुत ही आसान शब्दों में बताएंगे, इसलिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

Cardiology kya hota hai, how to became cardiologist in hindi

कार्डियोलॉजी क्या है ? Cardiologist कैसे बने ? पूरी जानकारी


कार्डियोलॉजी क्या है ? Cardiologist कौन होता है ?

Cardiology मेडिकल लाइन से सम्बंधित एक शब्द है, जो ऐसे डॉक्टर्स के लिए प्रयुक्त होता है जो दिल (heart) से सम्बंधित बीमारियां का इलाज करते है, यह इलाज सामान्य दवाइयों से लेकर सर्जरी तक हो सकता है। cardiologist heart disease का specialist होता है, यह दिल की छोटी से छोटी बीमारी से लेकर हार्ट अटैक जैसी बड़ी बीमारियों का इलाज करता है। यानी कि जो डॉक्टर heart सम्बंधित सभी प्रकार की बीमारियां का इलाज करते है उन्हें कार्डियोलॉजिस्ट कहते है, और इस कार्य को Cardiology कहते है।

Cardiologist heart specialist होता है, लेकिन इसमे भी कई पोस्ट होती है, कई तरह के कार्य होते है, जिसके लिए अलग अलग कार्डियोलॉजिस्ट होते है। यह posts आप नीचे देख सकते है।

  • Cardiology Surgeon
  • Cardiology Technologist 
  • Interventional Cardiologist 
  • ECG (Electro Cardio Graphic )
  • Cardiovascular Technologist 
  • Assistant Cardiology Supervisor
  • Cardiac Catheterization Technologist
  • Electro Cardiography Technician
  • Nuclear Cardiologist 

अभी आप कार्डियोलॉजी और कार्डियोलॉजिस्ट के बारे में अच्छे से जान गए होंगे, इसलिए चलिये अभी हम आपको बताते है कि एक कार्डियोलॉजिस्ट कैसे बनते है ?


कार्डियोलॉजिस्ट (Cardiologist) कैसे बने ?

एक cardiologist या आसान शब्दों में कहे तो heart specialist doctor बनने के लिए आपको कई सालों तक पूरी मेहनत के साथ पढ़ाई करनी होगी। क्योंकि cardiologist बनने के राह बहुत लम्बी है। यंहा हम आपको cardiologist बनने की जानकारी स्टेप बाई स्टेप बता रहे है।


Step:- 1

कार्डियोलॉजिस्ट बनने की तैयारी आपको 10th क्लास से ही शुरू करनी होगी और 12th क्लास साइंस स्ट्रीम से पास करनी है, साथ ही साइंस में आपके केमेस्ट्री, फिजिक्स, बायोलॉजी सब्जेक्ट होना जरूरी है। यानी आपका पहला कार्य है कि आप 12th क्लास PCB सब्जेक्ट से पास करे।


Step:- 2

12th के बाद आपको मेडिकल लाइन का under graduation कोर्स यानी MBBS (Bachelor of Medicine, Bachelor of Surgery) करना होगा। यह कोर्स 4.5 साल का होता है, साथ यह कोर्स करने के बाद 1 साल की इंटर्नशिप भी करनी पड़ती है, इसलिए यह कोर्स 5 साल और 6 महीने का हो जाता है। 

MBBS में एडमिशन लेने से पहले आपको इसका एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना पड़ता है, जिसको NEET के नाम से जाना जाता है। हमने NEET के बारे में डिटेल से एक लेख में बताया है, अगर आप चाहे तो अभी नीचे लिंक ओर क्लिक वो लेख पढ़ सकते है।

NEET एग्जाम पास करने पर ही आपको MBBS में एडमिशन मिलता है, इसलिए 12TH पास करने के बाद NEET की अच्छी तैयारी करें, ताकि यह एग्जाम क्लियर करके आप एक अच्छे कॉलेज से MBBS पास कर सके।


Step:- 3 

MBBS करने के बाद आपको मेडिकल लाइन में पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करना होगा। जिसको MD (Doctor of Medicine) के नाम से जाना जाता है। यह कोर्स करने के लिए आपको अपने सभी सब्जेक्ट में से किसी एक सब्जेक्ट को चुनना पड़ता है, इस कोर्स में उस सब्जेक्ट के बारे में आपको डिटेल से पढ़ाया जाता है। यह कोर्स 3 साल का होता है। 

MD कोर्स करने से पहले आपको एक एंट्रेंस एग्जाम देना होगा। इसलिए एमडी में प्रवेश लेने से पहले एंट्रेंस एग्जाम की अच्छी तैयारी करें। ताकि आपको MD कोर्स में एडमिशन मिल सके।


Step:- 4

MD करने के बाद आपको Cardiology में DM (Doctorate of Medicine) कोर्स करना होगा, जो कि 3 साल का होता है। यह कोर्स कार्डियोलॉजी के बारे में advance और deep information देता है, इसलिए यह कोर्स करने के बाद आप कार्डियोलॉजी में स्पेस्लिस्ट बन जाएंगे।

हालांकि इसके बाद भी कार्डियोलॉजी के और भी कई डिप्लोमा कोर्सेज होते हैं, जो आप कर सकते हैं और संबंधित फील्ड में और भी अधिक नॉलेज प्राप्त कर सकते हैं।


Step:- 5

DM कोर्स करने के बाद आप कार्डियोलॉजिस्ट स्पेशलिस्ट तो बन जाएंगे। लेकिन एक कार्डियोलॉजिस्ट के रूप में काम करने के लिए आपके पास मेडिकल लाइसेंस होना भी जरूरी है। इसलिए आपको सबसे पहले मेडिकल लाइसेंस प्राप्त करना होगा, और उसके बाद जिस राज्य में आप एक कार्डियोलॉजिस्ट के रूप में काम करना चाहते हैं, उस राज्य का मेडिकल लाइसेंस भी आपको लेना होगा। उसके बाद आप एक कार्डियोलॉजिस्ट के रूप में काम करना शुरू कर सकते है।


Cardiologist Sallery

एक कार्डियोलॉजिस्ट का कार्य बहुत ही कठिन और सेंसिटिव होता है। क्योंकि डॉक्टर की एक गलती की वजह से इंसान की मृत्यु भी हो सकती है, साथ ही एक कार्डियोलॉजिस्ट मरते हुए इंसान को भी बचा सकता है। इसलिए कार्य की महत्वता को देखते हुए एक कार्डियोलॉजिस्ट की सैलरी काफी अच्छी होती है। एक फ्रेशर कार्डियोलॉजिस्ट की सैलरी 1 लाख से 2 लाख तक per month होती है। उसके बाद जैसे-जैसे उसे एक्सपीरियंस होता है, वैसे वैसे ही उसकी सैलरी बढ़ती जाती है। इसके अलावा अगर कार्डियोलॉजिस्ट अपना खुद का हॉस्पिटल खोले ? तो उसकी इनकम उसके कार्य पर ही निर्भर करती है।

ये भी पढ़े...


Final Words:-

अगर आप एक कार्डियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं ? तो आपको धैर्य के साथ अच्छी मेहनत करनी होगी। यकीन मानिए अगर आप ईमानदारी से मेहनत करते हैं ? तो आप एक अच्छे कार्डियोलॉजिस्ट जरूर बनेंगे। उम्मीद है कि आपको यह जानकारी cardiology kya hai ? Cardiologist kon hota hai ? Cardiologist kaise bane ? आपको पसंद आई होगी। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप नीचे कमेंट करके बता सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो ? तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें।  

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां